मंगलवार, 3 जनवरी 2017

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर को उनके पद से हटाया

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को बर्खास्त किया

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को बर्खास्त किया

सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू करने को लेकर सालभर से ज्यादा समय से चल रहे मामले में सोमवार को अपना अंतिम फैसला सुनाते हुए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को पद से हटा दिया है।

यह भी पढे: सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीशों की सूची

सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को अवमानना नोटिस भी जारी किया जिसमें कहा गया कि उन्हें लोढा समिति की सिफारिशों को लागू करने की राह में रोड़े अटकाने का दोषी क्यों नहीं पाया जाए। मामले की सुनवाई 19 जनवरी को होनी है।

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर की अब हिमाचल क्रिकेट एसोसिएशन से भी छुट्टी तय मानी जा रही है। दरअसल, लोढ़ा कमेटी के अनुसार, लगातार दो या 9 साल तक ही कोई व्यक्ति राज्य क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष रह सकता है। अनुराग 16 वर्षों से एचपीसीए अध्यक्ष हैं। ऐसे में उनकी एचपीसीए से भी छुट्टी होनी तय है। यही वह सिफारिश है जिसका बोर्ड लगातार विरोध करता रहा है। इसी तरह जिला क्रिकेट संघों में भी इन सिफारिशों के लागू होते ही सब कुछ बदल जाएगा। 70 सदस्यों के एसोसिएशन में ऊपर से नीचे तक कई पदाधिकारियों को अपना गंवना पड़ेगा।

यह भी पढे: जाने 1928 से अब तक कब कौन-कौन बना बीसीसीआई अध्यक्ष

वर्तमान में एचपीसीए अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हर पांच साल बाद होते हैं। चुनाव प्रक्रिया में एसोसिएशन के सदस्य, जिलों के अध्यक्ष और सचिवों सहित कार्यकारी बोर्ड के 27 और 20 आजीवन सदस्य हिस्सा लेते हैं।

Popular/Trending News